Breaking News
Home / अध्यात्म / गणेश चतुर्थी पर इन कामो को करने की होती है मनाही, आप भी बचे

गणेश चतुर्थी पर इन कामो को करने की होती है मनाही, आप भी बचे

हिंदू धर्म में कई सारे त्योहार पड़ते ही रहते हैं, जिनमें से हर त्योहार का अपना अलग ही महत्व होता है। इस बार भादो माह में कई त्योहार पड़ने वाले हैं जिसकी वजह से यह महिना पावन माना जाता है। सावन के बाद भादो माह की अपनी अलग महिमा होती है। हाल ही में गणेश चतुर्थी का त्योहार पड़ने वाला है, जो कि देश भर में काफी धूमधाम से मनाया जाता है। बता दें कि गणेश चतुर्थी का यह त्योहार लगभग 10 दिनों तक मनाया जाता है इतना ही नहीं अगर बात करें उत्तर भारत की तो वहां यह त्योहार भगवान श्री गणेश की जयंती के रूप में भी मनाते हैं।

भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी से गणेश जी का उत्सव गणपति प्रतिमा की स्थापना कर उनकी पूजा से आरंभ होता है और लगातार दस दिनों तक घर में रखकर अनंत चतुर्दशी के दिन बप्पा की विदाई की जाती है। अब जानते हें इसके पूजन विधि के बारे में जिसका जानना बेहद आवश्यक है क्योंकि इस दिन की गई एक छोटी सी चूक से आपपर जीवनभर का कलंक लग जाता है।

पूजा विधि

गणेश चतुर्थी के दिन प्रात:काल स्नानादि से निवृत होकर गणेश जी की प्रतिमा बनाई जाती है। यह प्रतिमा सोने, तांबे, मिट्टी या गाय के गोबर से अपने सामर्थ्य के अनुसार बनाई जा सकती है। इसके पश्चात एक कोरा कलश लेकर उसमें जल भरकर उसे कोरे कपड़े से बांधा जाता है। इसके बाद एक साफ कलश लेकर उसमें जल भरें और उसे कोरे कपड़े से बांध दें। तब जाकर भगवान गणेश की प्रतिमा का स्थापना करें। इसके बाद प्रतिमा पर सिंदूर चढ़ाकर षोडशोपचार का पूजा करें। गणेश जी को दक्षिणा अर्पिता कर के 21 लड्डूओं का भोग लगाएं।

गणेश जी के पास केवल पाचं लड्डू रखें बाकि बचे हुए लड्डूओं को ब्राह्मणों में बांट दें। लेकिन इन सबके दौरान एक बात ध्यान देने वाला यह होता है कि भगवान गणेश जी की पूजा अक्सर ही शाम के समय करनी चाहिए। ध्यान रहे कि गणेश जी कि पूजा के बाद आंखों को नीचे करते हुए चंद्रमा को अर्घ्य देना चाहिए ऐसा इसलिए क्योंकि माना जाता है कि इस दिन चंद्रमा का दर्शन नहीं करना चाहिए। अर्घ्य देने के बाद ब्राह्मणों को भोजन करवाएं और उन्हें दक्षिणा दें। लेकिन सबसे ज्यादा गौर करने वाली बात ये है कि गणेश चतुर्थी पर भूल से भी चंद्रमा का दर्शन नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से आप पर जीवनभर का कलंक लग सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *